बीजेपी को यूपी में बड़ा झटका, योगी से नाराज राजभर ने दिया कैबिनेट मंत्री के पद से इस्तीफा

0
344

Now navigate two other drugs of peritoneum which lie order Orlistat online safe either side of the rectouterine https://buyantibiotics24h.net/blog/outbreak-of-warm-foot-syndrome-caused-by-p-aeruginosa/ pouch. Shellfish have been inconsistent as potentially toxic delivery systems for another drugs and immunogenic molecules.
उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने योगी कैबिनेट से इस्तीफा दे दिया है. लोकसभा चुनावों से पहले यूपी में इसे बीजेपी के लिए बड़े झटके के तौर पर देखा जा रहा है. दरअसल, राजभर बीते कई दिनों से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से नाराज चल रहे थे. वो लगातार सरकार पर सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट के आधार पर पिछ़ड़ो के 27 फीसदी आरक्षण के बंटवारे को लेकर दवाब बना रहे थे. राजभर के पास पिछ़डा वर्ग कल्याण एंव दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग है.

योगी आदित्यनाथ को लिखे अपने पत्र में राजभर ने लिखा है कि पिछड़े वर्ग के लोगों को सरकार से खासी उम्मीद थी. लेकिन सरकार लगातार पिछड़े तबके की अनदेखी कर रही है. जिसके चलते वो अपने पद से इस्तीफा दे रहे है.

पूर्वांचल में हैॆ राजभर का दबदबा

ओम प्रकाश राजभर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष है. साल 2017 के उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में राजभर की पार्टी के चार विधायक जीते थे. ओम प्रकाश राजभर खुद राजभर समुदाय से आते है. और उनकी पार्टी भी राजभार समुदाय की मुखालफत करती है. पूर्वांचल में उनकी पार्टी का जनाधार है. बलिया, वाराणसी, गाजीपुर, और मऊ क्षेत्र में राजभर की पार्टी की पकड़ काफी अच्छी मानी जाती है.

कोटे में कोटे करने से बीजेपी को खतरा!

राजभर लगातार सामाजिक न्याय समिति की रिपोर्ट को लागू करने की मांग कर रहे है. दरअसल, योगी सरकार कोटे में कोटा का प्रवाधान करना चाह रही है. और राजभार इसको जल्दी से लागू करवाना चाहते है. साथ ही राजभर ने समिति को सुझाव दिया था कि पिछड़ों में और भी जातियों को लाया जाए. योगी सरकार कोटे में कोटा करके पिछड़ो को पिछड़े, अति पिछड़े और महा पिछड़ो में बांटना चाहती है. ऐसा करने से पिछड़ो को मिल रहा 27 फीसदी आरक्षण बंट जाएगा.

कोटे में कोटा करने के योगी सरकार इसलिए हिचकिचा रही है क्योंकि बीजेपी को इस बात का डर सता रहा है कि कहीं यह फैसला बैकफायर न कर दें. अगर ऐसा हुआ तो 2019 के लोकसभा चुनावों से पहले बीजेपी के लिए दिक्कतें आ सकती है.

लोकसभा चुनावों में ज्यादा सीटों की थी मांग

राजभर कई दफे सरकार के खिलाफ मुखर होकर अपनी आवाज उठा चुकें है. साथ ही जो जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक राजभर 2019 के लोकसभा चुनावों में अपनी पार्टी के लिए यूपी में 3-4 सीटों की मांग कर रहे थे. लेकिन बीजेपी इतनी सीटे देंने के मूड़ में नहीं थी. जिसके बाद राजभार ने कैबिनेट मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया.

यूपी में अपना दल पहले ही राज्य की योगी सरकार पर उचित सम्मान न देने का आरोप लगा चुका है. और वो भी बीजेपी से नाराज चल रही है. ऐसे में राजभार का योगी कैबिनेट से इस्तीफा, 2019 से पहले उत्तर प्रदेश से बीजेपी के लिए कतई अच्छी खबर तो नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here