पीएम मोदी के इस विज्ञापन में नोएडा की तस्वीर को दिल्ली का बताया गया है

मायावती ने बतौर मुख्यमंत्री नोएडा के सेक्टर 37 में 9 साल पहले जिस अंडरपास और एलिवेडिट रोड़ का निर्माण करवाया था. मोदी सरकार ने इसे दिल्ली का विकास बताते हुए अखबारों में विज्ञापन दिया है.

0
118
उमर उजाला ईपेपर से कटिंग करने के बाद की तस्वीर

कहते है तस्वीरें बोलती है. शानिवार 9 मार्च 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फोटो के साथ दिल्ली एनसीआर के अखबारों में एक विज्ञापन दिया गया है. पूरे पेज का यह विज्ञापन है मिनिस्ट्री ऑफ हाउसिंग एंड अर्बन अफेयर्स के दवारा दिया गया है.

इसमें दावा किया गया है कि मोदी सरकार ने दिल्ली के विकास के लिए कई प्रयास किए है. जिसमें दिल्ली की अवैध कालोनियों को वैध करना भी शामिल है. लेकिन इस विज्ञापन में जिस तस्वीर को दिल्ली का बताकर मोदी सरकार के विकास का महिमामंडन किया गया है वो तस्वीर दिल्ली की है ही नहीं. और जो निर्माण कार्य उसमें दिख रहा है उससे मोदी सरकार का कोई सरोकार नहीं है.

उमर उजाला ईपेपर से कटिंग करने के बाद की तस्वीर

नोएडा में एक जगह है सेक्टर 37. नोएडा से दिल्ली आने जाने वाले लोग आज से 10 साल पहले तक जाम की समस्या से जूझते थे. लोगों को जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए तत्कालीन यूपी की मुख्यमंत्री मायावती ने एक अंडरपास और एक एलिवेडिट रोड़ बनाने का निर्णय किया. यह निर्माण कार्य अपने समय से पहले पूरा हुआ था.

बतौर मुख्यमंत्री मायावती के कार्यकाल पूरा होने तक यह निर्माण पूरा हो चुका था. लेकिन उसी दौरान यूपी में आचार संहित लग गई और इसका लोकार्पण नहीं हो पाया, तो लोगों ने इसका खुद से ही लोकार्पण कर दिया. मायावती के बतौर मुख्यमंत्री नोएडा के सेक्टर 37 में जिस अंडरपास और एलिवेडिट रोड़ का निर्माण करवाया था. मोदी सरकार ने इसे दिल्ली का विकास बताते हुए अखबारों में विज्ञापन दिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here